X Close
X

राष्ट्रव्यापी हड़ताल 8 जनवरी को, डबलूसीआरईयू ने भी दिया समर्थन


jabalpur-mp-Nationwide-strike-8-January-WCREU-support-central-labor-organizations-news-in-hindi-302399

जबलपुर/कोटा. तमाम केन्द्रीय श्रम संगठनों इंटक, एटक, एच.एम.एस., सीटू, राज. टे यू.केन्द्र, आरएमआरएसयू, बीमा, बैंक के सभी श्रमिकों एवं संगठित व असंगठित क्षेत्र की यूनियनें एवं अन्य संगठन द्वारा बुधवार 08 जनवरी को होने वाली देशाव्यापी हड़ताल में शामिल होंगे.

इस हड़ताल को आल इंडिया रेलवे मैंस फेडरेशन व वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन (डबलूसीआरईयू) द्वारा समर्थन दिया गया है. इनके समर्थन में 8 जनवरी की सुबह तीनों रेल मंडलों जबलपुर, कोटा व भोपाल में यूनियन प्रदर्शन करेगी.

केन्द्रिय श्रम संगठनों का संयुक्त मोर्चा के संयोजक मुकेश गालव ने बताया कि सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्रों का निजीकरण कर रही है, रेलवे का निजीकरण करने में आमादा है, एलआईसी को भी निजी हाथों में देने की तैयारी है, महंगाई दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, सभी को न्यूनतम वेतन 21 हजार रुपए प्रतिमाह से कम नहीं होना चाहिये, असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिये सर्वव्यापी सामाजिक सुरक्षा कानून बनाया जाये, राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा कोष का निर्माण किया जाये, आंगनबाड़ी, मिड डे मिल, आशा, रोजगार सेवक, ग्रामीण आदि कर्मचारियों को राज्य कर्मचारी का दर्जा दिया जाए.

श्री गालव ने कहा कि केन्द्र सरकार रेल, रक्षा, बीमा, में विदेशी पूंजी निवेश पर रोक लगाने, श्रम कानूनों को सख्ती से लागू किया जाये तथा श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशाोधनों को वापस लिया जाये, जैसी अनेक समस्याओं व मांगों को लेकर देशव्यापी आम हड़ताल पर जाने का फैसला लिया गया है. श्री गालव ने बताया कि दिनांक 08 जनवरी को कोटा के नयापुरा विवेकानन्द सर्किंल पर एकत्रित होकर विशाल रैली निकालकर प्रधानमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया जायेगा. जिसमें सभी श्रमिकों से आव्हान किया है कि अधिक से अधिक संख्या में एकत्रित होकर आम हड़ताल को सफल बनायें.

जबलपुर, भोपाल व कोटा में डबलूसीआरईयू करेगी समर्थन में प्रदर्शन

श्री गालव ने बताया कि डबलूसीआरईयू तीनों रेल मंडलों, मुख्यालय व सभी प्रमुख स्टेशनों, वर्कशॉप्स में बड़ी संख्या में यूनियन पदाधिकारी व रेल कर्मचारी, इस राष्ट्रव्यापी हड़़ताल को अपना समर्थन देने के लिए प्रदर्शन करेंगे. इस दौरान तीनों रेल मंडलों के यूनियन पदाधिकारी व कार्यकर्ता केंद्र सरकार की नीति के खिलाफ रेल कर्मचारियों को जागरुक करेंगे.

(PAL PAL INDIA)